The Fear

जब कोई, खुशियाँ..
हथेलियो मे समेटे लाए..
जब हर सपनो का रंग,
सिंदूरी होता जाए..

जब साथ देता हर साया,
बढ़ता जाए

डर लगता है, की नये अंधेरो,
की तासीर क्या होगी.. ?

क्या फिर से वही, कहानी
दुहराई जाएगी..
जिसकी सीमाए, रोशनी से चलकर..
अंधेरो मे गुम हो जाएंगी

और फिर असहाय सा खड़ा मैं,
रोशनी को जाते ताकते रहता हूं !’

‘HUM TUM’

कब चाहा..
की साथ उड़ सकूँ मैं,
चाहत है..
सिर्फ़ इतनी,
कीतुम
आँखें खोलो और देखो,
किसी का सपना होतुम
किसी की कोशिशें होतुम
किसी की मंज़िल होतुम
किसी का आपना होतुम

कोई है, जो दूर से
बहूत दूर से,
खुद कोतुममे
तलाशता हुया, मैं को तरसता है !

आँखें खोलोपरी
मैंकी बस यही चाहत है..
तुम मे खो कर..
पाना
हमको !

आँखे खोलोपरी‘..
और दे दोमैंको उसकी पहचान
हम तुम

देखो ना शायद लम्हो की भी गुज़ारिश है ये