You ‘n Me Forever

In your eyes i see,
a rainbow, deep in me..
colored with breeze,
I’ve seen.. the paradise,
‘ve never been..
Holding my hand,
‘n just walking by..
you’ve changed my world
with blink of an eye
I say nothing but stare..
the deep blue sea
the touch so soft..
embraced with care
Walking close, you ‘n me..
your love so tender,
‘n its sustaining in me..
the dream, of hearts
beating together..
Oh ! my darling,
Let’s stay this way forever.

Ronan keating – “when you say nothing at all” by sachin verma

Advertisements

With all my heart

I stood there for long
as you turned away.. ’n gone
choking ‘n staring.. your way
nothing was left to say
Wish you could hear,
the dilemma hidden..
‘n the truth within,
was there never a reason
why a soul lingering ?
as if a cloud in the sky
a dream, flickering..
‘n you to my soul..
on verge of diffusing,
all the fervor ‘n control..
Embraced by the haze
bit scared or amazed,
the touch, portrayed by the hearts..
rendered to your guilt,
of tearing it apart..
its me, on my knees..
pleading, whispering
to your heart..
turn back and look at me..
reach out your hand,
‘n put your arms.. around me
I’ve loved you from the start..
the deepest ‘n with all my heart

Tum Pukar lo.. Tumahara Intezaar hai !

एक इंतज़ार है,
इन आँखों को, जो जानेकहाँ तक..
उन अंधेरी वीरान हो चुकी गलियो मे,
तुम्हे खोजती हैं,
जिनसे कभी हम गुज़रे थे !

एक इंतज़ार है,
मेरे एहसासों को, जो जाने कब से..
दिल के अंधेरो मे,
तन्हा, गुमसुम है !

एक इंतजार है,
मेरे दिल को, जो कब से..
तुमसे कुछ लफ़्ज़ों, को तरसता है !

एक इंतज़ार है,
और भी कितने इंतज़ारों की तरह..
कि तुम पुकारोगे..
मेरे इंतेज़ारों कि मिश्री मुझे दोगे,
और तब, उन अंधेरी वीरान गलियों मे..
वो लफ्ज़, मेरे एहसासो को पाकर..
एक नये संगीत को गुनगुनायेंगे !!

एक इंतज़ार है,
कि कभी तो मेरे इंतजारो की सीमाए..
बढ़कर तुम्हे मेरे छू लेंगी,
और तुम्हे मेरे इंतेज़ारों का एहसास होगा,
तब तुम चुपके से बढ़कर..
मेरा हाथ थाम लोगी,
मेरे बिखरे सपनो को समेट कर,
उनमे रंग भर दोगी !!

एक इंतज़ार है,
की जब तेरे दिल की धड़कन,
मेरे दिल की तरह ही धड़केंगी..

एक इंतज़ार है,
उस खामोशी का,
जिसके बाद कोई भी तुंफान,
तुम्हे मुझसे जुदा न कर पाएगा,

एक इंतज़ार है,
की तुम पुकरोगी,
“तुम पुकार लो..
तुम्हारा इंतज़ार है !!”

Hemant from Khamoshi – “तुम पुकार लो.. तुम्हारा इंतज़ार है !!” by sachin verma